मत्ती 1

1यीशु मसीह की वंशावली जो दाऊद और अब्राहम के वंश के थे। 2अब्राहम के बेटे का नाम इसहाक और इसहाक के बेटे का नाम याकूब था। याकूब से यहूदा और उसके भाई पैदा हुए थे। 3यहूदा और तामार से पेरेज़ और ज़ेरह पैदा हुए थे। पेरेज़ का बेटा हेज्रोन और हेज्रोन का बेटा एराम था। 4एराम से अम्मीनादाब, अम्मीनादाब से नहशोन और नहशोन से सलमोन पैदा हुआ। 5सलमोन और राहाब से बोअज़ तथा बोअज़ और रूत से ओबेद पैदा हुआ, और ओबेद से यिशै पैदा हुआ। 6यिशै का बेटा राजा दाऊद था। 7उरिय्याह की पत्नी और दाऊद से सुलेमान पैदा हुआ। 8सुलेमान का बेटा रहूबियाम था, रहूबियाम का बेटा अबिय्याह और अबिय्याह का आसा। आसा से यहोशापात, यहोशापात से योराम और योराम से उज्जिय्याह पैदा हुआ। 9उज्जिय्याह से योताम, योताम से आहाज़ और आहाज़ से हिज़िक्याह पैदा हुआ। 10हिज़िक्याह से मनश्शे, मनश्शे से अमोन और अमोन से योशिय्याह पैदा हुआ। 11यहूदी लोग बेबीलोन ले जाए जा रहे थे, तभी योशिय्याह से यकुन्याह और उसके भाई पैदा हुए थे। 12बेबीलोन ले जाए जाने के बाद यकुन्याह ने शालतिएल और शालतिएल ने ज़रूब्बाबेल को जन्म दिया। 13ज़रूब्बाबेल ने अबीऊद और अबीऊद ने एल्याकिम और एल्याकिम ने अजोर को जन्म दिया। 14अजोर से सदोक और सदोक से अखीम और अखीम से एलीहूद पैदा हुआ। 15एलीहूद से एलीआज़र, एलीआज़र से मत्तान और मत्तान से याकूब पैदा हुआ। 16याकूब से यूसुफ़ जो उस मरियम का पति था, जिस से यीशु मसीह का जन्म हुआ। 17अब्राहम से दाऊद चौदह पीढ़ी दाऊद से बेबिलोन की गुलामी तक जाने में चौदह पीढ़ी और बेबीलोन की गुलामी से मसीह तक चौदह पीढ़ी हुयी। 18यीशु मसीह का जन्म इस तरह हुआः यूसुफ़ के साथ मरियम की सगाई के बाद इसके पहले कि उनका कोई शारीरिक सम्बन्ध हो, पवित्र आत्मा के द्वारा वह गर्भवती हो गयी। 19एक धर्मी व्यक्‍ति होने की वजह से यूसुफ़ ने जो मरियम की बेइज़्ज़ती नहीं देख सकता था, चुपचाप से अपनी सगाई की शपथ को तोड़ना चाहा। 20लेकिन जब वह इन बातों के बारे में सोच ही रहा था, तभी अचानक सपने में परमेश्‍वर का एक स्वर्गदूत प्रगट होकर कहने लगा, "दाऊद के वंशज यूसुफ़, मरियम को अपने यहाँ लाने से मत डरो। उसके गर्भ का फल पवित्र आत्मा की तरफ़ से है। 21उसके एक बेटा पैदा होगा, तुम उसका नाम यीशु रखना, क्योंकि वह अपने लोगों को उनके गुनाहों की सज़ा से बचाएगा।" 22यह सब इसलिए हुआ ताकि जो कुछ प्रभु ने नबी के ज़रिए कहा था, वह पूरा हो, वह यह कि, 23"देखो, एक कुवाँरी गर्भवती होगी और उसके एक बेटा होगा। उसका नाम 'इम्मानुएल', जिसका मतलब है 'परमेश्‍वर हमारे साथ' रखा जाएगा।" 24नींद से जाग उठने के बाद उसने वही किया, जिसे करने के लिए परमेश्‍वर के स्वर्गदूत ने आज्ञा दी थी। उसने मरियम को अपनी पत्नी करके अपना लिया। 25लेकिन मरियम के साथ उसने तब तक शारीरिक सम्बन्ध नहीं रखा जब तक मरियम ने अपनी पहली संतान को जन्म न दिया और उसने उसका नाम यीशु रखा।


Copyrighted Material
Learn More

will be added

X\